Colors
 
खनन माफियाओं ने महिला आईएस अधिकारी समेत प्रशासन की टीम पर हमला किया
By admin On 25 Aug, 2013 At 06:28 AM | Categorized As Haridwar, Swindle, Uttarakhand, Your News | With 0 Comments

सरकारी अमले पर खनन माफियाओं के हमले से उत्तराखंड में मचा हडकंप
एक आई पी एस अधिकरी जोशी का तबादला खनन माफियाओं ने अपने राजनीतिक आकाओं के बूते करवाया
उत्तराखंड में खनन माफियाओं के हौंसले हुए बुलंद
अवैध खनन से हरिद्वार में चल रहा है तीन सौ करोड़ का अवैध धंधा
सुनील दत्त पांडेय
हरिद्वार 24 अगस्त। उत्तराखंड मेें राजनेताओं के बल पर पल रहे खनन माफियाओं की हिम्मत इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि वे अब अधिकारियों पर जानलेवा हमला करने पर •ाी उतारू हो गए है। अब तक खनन माफियाओें के दबाव में हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अरूण मोहन जोशी का तबादला रातों रात कर दिया गया था। क्योंकि जोशी ने एक केेंद्रीय मंत्री के घनिष्ठ खनन माफिया के ऊपर जबरदस्त शिकंजा कस दिया था और इस खनन माफिया ने केंद्रीय मंत्री पर दबाव डलवाकर जोशी का तबादला पीएसी की चालीसवीं वाहिनी में करवा दिया। बताते है कि इस केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस हाईकमान के एक ताकतवर राजनीतिक सलाहकार से राज्य के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा पर दबाव डलवाकर एसएसपी जोशी का तबादला करवा दिया था। मुख्यमंत्री जोशी का तबादला करने के पक्ष में नहीं थे। परन्तु पार्टी हाईकमान के दबाव में मुख्यमंत्री को झुकना पड़ा था। पर्यावरण की रक्षा के लिए खनन माफियाओं से लड रहे मातृसदन के संचालक स्वामी शिवानंद सरस्वती ने आरोप लगाया कि यदि मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा केंद्रीय मंत्री हरीश रावत के दबाव में आकर खनन माफियाओं से लड रहे एसएसपी जोशी का तबादला नहीं करते तो आज खनन माफियाओं की हिम्मत आईएएस और अन्य अधिकारियों पर जानलेवा करने की नही होती। एसएसपी जोशी का तबादला खनन माफियाओं के दबाव में करने से केंद्रीय मंत्री हरीश रावत और कांग्रेस की राज्य में अच्छी खासी फजीहत हो रही है।
अपने राजनीतिक आकाओं के बूते पर अब खनन माफियाओं की हिम्मत इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि रूडकी में तैनात ज्वाइंट मजिस्ट्रेट आईएएस अफसर सोनिका मीणा और उनके गनर विक्रम सिंह पर खनन माफियाओें ने टैÑक्टर-ट्राली चढ़ाकर जान से मारने के इरादे से कुचलने का प्रयास किया। आईएएस अफसर सोनिका मीणा रूडकी के पास नन्हेड़ा जा रहीे थीं। पुहाना के पास उन्हें खनन से लदी कुछ टैÑक्टर-ट्रालियां दिखीं। उन्होंने अपने गनर को उन्हें रोकने के लिए •ोजा। गनर जब ट्रालियों की तरफ जा रहा था तो एक ड्राइवर ने उस पर टैÑक्टर चढ़ाने का प्रयास किया। गनर ने कूद कर अपनी जान बचाई। इसके बाद टैÑक्टर के पास खड़ी आईएएस अधिकारी सोनिका मीणा की गाड़ी की तरफ खनन माफिया ट्रैक्टर-ट्राली लेकर बढ़ा तो अपनी जान को को खतरे में देख यह महिला अधिकारी अपनी गाडी से कूदकर एक तरफ •ाागी तब जाकर इस अधिकारी की जान बची, वरना खनन माफियाओं ने तो इस महिला अधिकारी और उसके गनर की जान लेने की पूरी कोशिश की थी। इस हादसे की सूचना तुरन्त पुलिस को •ोजी गई तब जाकर पुलिस सक्रिय हुई और उन्होंने ट्रैक्टर-ट्राली के चालक और पिता को धर दबोचा।
पुलिस ने एक टैÑक्टर-ट्राली को जब्त कर लिया। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सोनिका मीणा ने बताया कि वे और उनके गनर इस घटना में बाल-बाल बचे। उन्होंने कहा कि खनन माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अपर तहसीलदार ने इस मामले में कार्रवाई करने के लिए पुलिस को तहरीर दी है।
अवैध खनन रोकने के लिए  गई टीम पर हमला किये जाने के मामले में छह लोगोें के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने कई स्थानों पर ताबड़तोड़ छापे मारे, लेकिन अ•ाी तक एक ही आरोपित पुलिस के हत्थे चढ़ा है। अन्य पांच आरोपियों के लिए पुलिस लगातार छापा मार रही है। तहसीलदार धनप्रकाश शर्मा को सूचना मिली थी कि रायसी क्षेत्र में खनन किया जा रहा है। इसकी जानकारी मिलते ही धनप्रकाश शर्मा अपने वाहन पर ड्राइवर पवन त्यागी और होमगार्ड ओमपाल को लेकर मौके पर पहुंच गये। इन्हें देखकर खनन माफिया •ाागने लगे लेकिन इसी बीच तहसीलदार ने एक माफिय की टैÑक्टर ट्राली कब्जे में ले ली। इसके बाद तहसीलदार ने अपने ड्राइवर को ट्रैक्टर टाली को लेकर चलने को कहा। इसी बीच माफिया टीम से हाथापाई कर •ााग निकला और अपने अन्य साथियों को इसकी जानकारी दी। तहसीलदार और उनकी टीम जब्त की गई टैÑक्टर ट्राली लेकर खंडजाकुतुबपुर गांव तक आए थे कि इसी बीच लाठी-डंडों से लैस दर्जन •ार बदमाशों ने उनहें घेर लिया तथा लाठी-डंडों से ड्राइवर व होमगार्ड को लहूलुहान कर दिया। इतना ही नहीं तहसीलदार की गाड़ी का अगला हिस्सा •ाी तोड़ दिया। इसके बाद माफिया ट्राली लेकर •ााग गये।
तहसीलदार ने उपजिलाधिकारी उत्तम सिंह चौहान व पुलिस क्षेत्रााधिकारी मनोज कत्याल को घटना की जानकारी दी। जानकारी मिलते ही थानाध्यक्ष खानपुर प्रवीण कोश्यारी, जीआरपी थानाध्यक्ष केएम मोहन •ांडार, कोतवाल लक्सर •ाान सिंह, लक्सर गोवर्धनपुर, सुल्तानपुर और रायसी चौकी के प्र•ाारी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस टीम ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया व उच्चाधिकारियों को घटना की जानकारी दी। आरोपितोें की तलाश में कोतवाली पुलिस ने कान्हावाली में छापामार कर कई माफियाओें को हिरासत में ले लिया तथा   कोतवाली में ले आये। पुलिस ने ड्राइवर ओमपाल से आरोपितों की पहचान करायी। पवन त्यागी ने एक आरोपित को पहचान लिया। पुलिस ने पहचाने गये आरोपित सोनू को हिरासत में ले लिया। खनन माफिया की तलाश में कोतवाली पुलिस की दो टीमें गठित की गई हैं। एक टीम आरोपियों की तलाश में छापा मारने के लिए उत्तरप्रदेश •ोजी गई है क्योंकि मामले के मुख्य आरोपी देवेन्द्र के उत्तरप्रदेश के एक ठिकाने पर छिपे होने की जानकारी पुलिस को मिली है। ड्राइवर व होमगार्ड को गं•ाीर हालत में जिला अस्पताल मेें •ार्ती कराया गया है। उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में सबसे ज्यादा अवैध खनन गंगा और अन्य नदियों पर होता है। राज्य को लीगल खनन के ठेकोें से केवल 15 करोड़ की सालाना आमदनी होती है, जबकि अवैध खनन से 300 करोड़ से ज्यादा का कारोबार खनन माफियाओं का चलता है। हरिद्वार जनपद में करीबन 48 स्टोन क्रैशर है। और इन स्टोन क्रैशरों के मालिकों में कई विधायकों और पूर्व मंत्रियों के रिश्तेदार शामिल है। इसीलिए हरिद्वार में अवैध खनन का कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है और जो अफसर अवैध खनन पर शिकंजा कसता है उसको ठिकाने लगा दिया जाता है।

About -

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>


Powered By Indic IME

Hit Counter provided by orange county property management