Colors
 
गीता आनंदी – जब रमन था गैरों में
By Gaurav Kashyap On 11 Apr, 2018 At 06:59 AM | Categorized As Literature, Poem, Religion | With 0 Comments

back cover

जब रमन था गैरों में
तब पकड़ थी,भय था,चिन्ता थी
अब खुद का खुद में रमन हैं
अब किस की चिंता , किसका भय?
मै ही राधा, मैं कन्हैया
मै वृन्दावन वाटिका हूँ
मैं ही रास और मै रसैया
मैं ही मुरली, मैं बजैया।

About -

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>


Powered By Indic IME

Hit Counter provided by orange county property management