Colors
 
गुरु गोविंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर नगर कीर्तन निकाला गया
By Gaurav Kashyap On 12 Jan, 2019 At 04:28 PM | Categorized As Haridwar, Uttarakhand | With 0 Comments

z

  • गौरव कश्यप
हरिद्वार 11 जनवरी। सिखों के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह जी के 352 वे प्रकाश पर्व के अवसर पर दशमेश सेवा समिति हरिद्वार द्वारा छठवें विशाल नगर कीर्तन का आज आयोजन किया गया। आज सुबह 11 बजे श्री देवपुरा आश्रम से नगर कीर्तन की शुरुआत की गई। नगर कीर्तन का उद्घाटन श्री निर्मल संत पुरा कनखल के अध्यक्ष महंत जगजीत सिंह महाराज ने किया। नगर के नगर के प्रमुख बाजारोंं से होता हुआ यह नगर कीर्तन डेरा बाबा दरगाह सिंह जी तप स्थान गुरु अमर दास तीजी पातशाही सती घाट कनखल में समाप्त हुआ । इस अवसर पर बड़ी तादाद में साधु संत महामंडलेश्वर  महंत और सिख समुदाय तथा समाज के विभिन्न वर्गों के लोग सैकड़ों की तादाद में श्रद्धालुओं ने भाग  लिया।
गुरु गोविंद सिंह के विचार  हर युग में प्रासंगिक रहेंगे-महंत जगजीत सिंह  महाराज
महंत  जगजीत सिंह महाराज ने  सिख संगत को संबोधित करते हुए कहा कि गुरुओं का  मार्ग ही हमें मोक्ष प्राप्त करवा सकता है। गुरु की महिमा महान है। गुरु के बिना मुक्ति नहीं मिलती। उन्होंने कहा कि गुरू गोविंद सिंह जी ने सिख समुदाय को धर्म की रक्षा के लिए किसी भी तरह का बलिदान देने की सीख दी और सनातन धर्म की रक्षा के लिए गुरु गोविंद सिंह जी ने अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया। उन्होंने कहा कि गुरु गोविंद सिंह जी के विचार हर युग में प्रासंगिक रहेंगे ।
डेरा बाबा दरगाह सिंह तीजी पातशाही  तप स्थान  गुरू अमरदास गुरुद्वारा के ग्रंथि  ज्ञानी  देवेंद्र सिंह महाराज ने कहा  की  गुरु गोविंद सिंह जी ने धर्म और राष्ट्र रक्षा एक साथ की और राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने परिवार सहित महान कुर्बानी दी। उन्होंने कहा कि गुरु गोविंद सिंह जी मानवतावादी थे ।उन्होंने समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर किया
 y
नगर कीर्तन का हरिद्वार की जनता ने गर्मजोशी से स्वागत किया
नगर कीर्तन देवपुरा आश्रम हरिद्वार से ऋषि कुल, रानीपुर मोड़, चंद्राचार्य चौक, आर्य नगर, रामनगर, सिंहद्वार, कृष्णा नगर, देश रक्षक तिराहा, दादू बाग, हनुमानगढ़ी, निर्मल संत पुरा आश्रम, कनखल थाना, ज्वालापुर रोड, कनखल चौक बाजार, महात्मा गांधी रोड, घास मंडी, सती घाट रोड होते हुए डेरा बाबा दरगाह सिंह तीजी पातशाही तप स्थान गुरु अमरदास देर शाम पहुंचा।ल जहां गुरु ग्रंथ साहिब की अरदास और भोग के बाद नगर कीर्तन का समापन हुआ। पूरे हरिद्वार को दुल्हन की तरह सजाया गया। रास्ते में जगह-जगह पर लोगों ने  नगर कीर्तन और गुरु ग्रंथ साहिब जी की सवारी का जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर आकर्षक झांकियां निकाली गयी  और अमृतसर से आई गतका पार्टी  के  साहसिक कलाकारों ने अपनी कला का शानदार प्रदर्शन किया। इस अवसर पर ज्ञानी इंद्रजीत सिंह बिट्टू, ऋषभ मल्होत्रा, गगनदीप सिंह, अमनदीप सिंह, इंद्रमोहन भसीन, देवेंद्र सिंह लवली, हरदीप सिंह दीपा, बीपी शरणजीत कौर ओबरॉय आदि ने नगर कीर्तन को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

About -

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>


Powered By Indic IME

Hit Counter provided by orange county property management