Colors
 
निशंक ने नमामि गंगे योजना के अन्तर्गत राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जल संस्थान, जल निगम द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की
By Gaurav Kashyap On 9 Jul, 2018 At 03:12 PM | Categorized As Haridwar, Uttarakhand | With 0 Comments

namami gange meeting by mp haridwar 3

  • गौरव कश्यप

हरिद्वार 9 जुलाई। माननीय सांसद हरिद्वार रमेश पोखरियाल निशंक ने नमामि गंगे योजना के अन्तर्गत गंगा स्वच्छता के लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जल संस्थान, जल निगम आदि संस्थानों की ओर से किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की। उनके साथ जिलाधिकारी दीपक रावत, मुख्य नगर आयुक्त नगर निगम नितिन भदौरिया सहित गंगा सभा के पदाधिकारी मौजूद रहे। निशंक ने अधिकारियो को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि नमामि गंगे का लक्ष्य गंगा को गंगोत्री से लेकर मैदान तक पूर्णतः स्वच्छ बनाना है। कोई भी विभाग अपने अनुसार यह तय नहींे कर सकता कि कहां गंगा है कहां चैनल योजना पूर्णतः गंगा को समर्पित है।
उन्होंने जिलाधिकारी दीपक रावत तथा नगर आयुक्त से कहा कि डीएम की अध्यक्षता में बनी जिला स्तरीय गंगा स्वच्छता समिति कड़ाई सुनिश्चित करे कि गंगा व गंगा के आस-पास पाॅलिथीन पूर्णतः बंद हो, धोबी घाटों के अतिरिक्त गंगा घाटों पर कपड़े धोना, साबुन इत्यादि से स्नान बंद हो। धोबी घाटों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था तैयार कर ली जाये। कोई भी व्यक्ति गंगा में फूल, पूजा सामग्री इत्यादि प्रवाहित न करे। इसके लिए बनायी गयी गंगा प्रहरी टीम को और अधिक सशक्त किया जाये। गंगा के किनारे बने कर्मिशियल तथा नाॅन कर्मिशियल धार्मिक बिल्डिंग जिला प्रशासन, नगर निगम के सहयोग से अपना सीवरेज सप्लाई, कूड़ा निस्तारण उचित ढंग से करें। गंगा में कोई भी संस्थान अपनी गंदगी न बहाये। कोई भी संस्थान इसमे जिला प्रशासन से हर सम्भव सहयोग प्राप्त कर सकता है। नगर निगम यह सुनिश्चित करे कि हर छोटी-बड़ी बस्ती, रिहायशि इलाकों तक हर घर कूड़ेदान पहुंचे और लोग सड़कों, नालियों में गंदगी न डाले।
श्री निशंक ने नमामि गंगे के अन्तर्गत वन विभाग द्वारा गंगा किनारे किये जा रहे वनिकरण की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि वनिकरण के लिए गंगा किस स्थान पर वृक्षारोपण होना है यह कार्य अन्य किसी संस्था के बजाय जिलाधिकारी तथा, डीएफओ के विवेक पर होना चाहिए। गंगा किनारे के स्थित जनपदों के जिलाधिकारियों को इसकी जानकारी अधिक होना स्वभाविक है। उन्होंने वन विभाग तथा हरिद्वार-रूड़की प्राधिकरण को नक्षत्र वाटिका, गंगा वाटिका की तर्ज पर शीघ्र ही एक भव्य गंगा म्यूजियम तैयार किये जाने की बात कही। वन विभाग तथा स्थानीय प्रशासन मिलकर हरिद्वार के पर्यटकों, तीर्थ यात्रियो के लिए गंगा म्यूजियम के रूप में एक विशेष आकर्षण का केंद्र स्थापित करे। रिवर फ्रंट डेवलेपमेंट कर रही कम्पनी वेपकोस से भी अभी तक हुई प्रगति की जानकारी माननीय सांसद ने ली। बैठक में निदेशक नमामि गंगे राघव लांगर, जिलाध्यक्ष भाजपा जयपाल चौहान, ओमप्रकाश जमदग्नि, आदित्यराज सैनी, गंगा सभा के रामकुमार शर्मा, पुरूषोत्तम गांधीवादी, अशोक त्रिपाठी सहित अनेक अधिकारी उपस्थित थे।

About -

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>


Powered By Indic IME

Hit Counter provided by orange county property management