Colors
 
सात दिवसीय एकल सांस्कृतिक कथा महोत्सव का हुआ समापन
By Gaurav Kashyap On 15 Apr, 2018 At 12:04 PM | Categorized As Rishikesh, Uttarakhand | With 0 Comments

  • गौरव कश्यप

ऋषिकेश 15 अप्रैल। ऋषिकेश में परमार्थ निकेतन गंगा तट पर भारत लोक शिक्षा परिषद और परमार्थ निकेतन के संयुक्त तत्वाधान में आज सात दिवसीय एकल सांस्कृतिक कथा महोत्सव का समापन देश के पूज्य संतों, प्रतिष्ठित राजनेताओें एवं गणमान्य अतिथियों की पावन उपस्थिति में हुआ। आज के इस दिव्य कथा समापन महोत्सव में युगपुरूष परमानन्द, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती, रामानन्दाचार्य स्वामी हँसदेवाचार्य, महामण्डलेश्वर स्वामी हरिचेतना नन्द, महामण्डलेश्वर स्वामी ज्यातिर्मयानन्द, महामण्डलेश्वर भक्त हरि एंव अन्य संतों ने सहभाग किया।
इस अवसर पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि एकल प्रयास सबल प्रयास, सफल प्रयास है। आगे भी भारत लोक शिक्षा परिषद और परमार्थ निकेतन दोनों मिलकर शिक्षा और संस्कार नदियों और पर्यावरण संरक्षण तथा स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिये कार्य करेंगे। उन्होंने कथा में उपस्थित सैकड़ों भक्तों को पर्यावरण संरक्षण और वृक्षारोपण का संकल्प कराया।
इस अवसर पर रामानन्दाचार्य स्वामी हँसदेवाचार्य ने कहा कि एकल अभियान भारत के समग्र विकास का आन्दोलन है। शिक्षा, संस्कार, स्वास्थ्य, स्वच्छता, पर्यावरण और वृक्षारोपण के प्रति समाज को जाग्रत कर भारत का विकास सम्भव है। उन्होने कहा कि एकल आन्दोलन से आने वाली पीढ़ियों में संस्कृति और संस्कारों का बीजारोपण किया जा सकता है। अतः इस अभियान को मुक्त हस्त से सहयोग करने का निवेदन किया।’ इस अवसर पर उन्होने 2,50,000 रूपये की धनराशी का चैक प्रदान किया।
स्वामी हरिचेतनानन्द ने कहा कि एकल विद्यालय ईमानदार और भारत की रक्षा करने वाली पीढ़ी तैयार कर रहा है। यहां पर मानवता के आधार पर बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती है। हम एकल के माध्यम से अन्तिम पंक्ति में बैठे अन्तिम व्यक्ति तक शिक्षा को पहुंचाना चाहते है। एकल के माध्यम से शिक्षित कर हम पलायन को भी कम कर सकते है। उन्होने कहा कि भारत के संत हमेशा श्रेष्ठ संकल्पों के साथ है।’  कथा के समापन अवसर पर कथा व्यास स्वामी गोविन्द देव गिरि जी महाराज ने राष्ट्र की एकता, अखंडता, शिक्षा और संस्कार के लिये एकल महोत्सव को श्रेष्ठ आयोजन बताया और सभी आयोजकों का इस श्रेष्ठ कार्य के लिये अभिनन्दन किया।

About -

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>


Powered By Indic IME

Hit Counter provided by orange county property management